रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग में तेज बारिश, अगले कुछ दिनों तक ऐसा ही मौसम रहने की संभावना

Featured Latest आसपास छत्तीसगढ़ प्रदेश
Spread the love

रायपुर| राजधानी रायपुर और दुर्ग के आसमान पर शनिवार से छाए बादल रविवार सुबह बरस पड़े। हल्की हवा और गरज-चमक के साथ तेज बरसात हुई। रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, धमतरी, महासमुंद, गरियाबंद, कबीरधाम, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, बलौदा बाजार और बालोद जैसे जिलों में कई स्थानों पर बरसात की रिपोर्ट है।

 

 

यह भी पढ़े :

शाला प्रवेश के साथ ही चरामेति का कॉपी वितरण महोत्सव शुरू

 

 

मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार दोपहर बाद तक दक्षिण-पश्चिम मानसून की उत्तरी सीमा पेण्ड्रा रोड तक पहुंच गई थी। सुबह से ही जांजगीर-चांपा, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही और बिलासपुर जैसे जिलों में भी मध्यम से भारी बरसात दर्ज होने के बाद इसकी संभावना जताई जा रही थी। मौसम विभाग ने दोपहर बाद इसकी आधिकारिक पुष्ट की। बताया गया, मानसून की उत्तरी सीमा पोरबंदर, बड़ौदा, इंदौर, उमरिया, पेंड्रा रोड, भवानीपटना, कलिंगपट्टनम, दीघा, गिरिडीह, पटना तक है। मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश के कुछ और हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। विभाग के मुताबिक अगले कुछ दिनों तक प्रदेश में ऐसे ही बरसात रह सकती है।

 

 

यह भी पढ़े :

अबूझमाड़ के किसानों को सोलर सिंचाई पम्प से सिंचाई सुविधा का लाभ दिलाने के मुख्यमंत्री के निर्देश पर तेजी से अमल

 

 

मौसम विभाग के मुताबिक एक द्रोणिका उत्तर राजस्थान से मणिपुर तक स्थित है। इसके प्रभाव से प्रदेश में रविवार को अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम होने की संभावना बनी है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ बिजली गिरने तथा अंधड़ चलने की संभावना भी बन रही है। कहा जा रहा है, अंधड़ के समय हवा की रफ्तार 40 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है। मौसम विभाग ने 19 से 23 जून के बीच छत्तीसगढ़ के कुछ स्थानों पर भारी बरसात की संभावना जताई है। राजधानी रायपुर में बूढ़ातालाब के पास धरना स्थल, पहली बरसात में ही पानी-पानी हो गया है। तेज हवा से आंदोलनकारियों के पंडाल को नुकसान हुआ है। वहीं सड़क से नीचे होने की वजह से मैदान में पानी भर गया है। यहां धरने पर बैठे कई संगठनों के लोग बुरी तरह भीग गए हैं।छत्तीसगढ़ में मानसून का आगमन 15-16 जून की रात ही हो गया था। 16 जून को दोपहर बाद मौसम विभाग ने बताया, मानसून छत्तीसगढ़ के बस्तर को पार कर दुर्ग तक पहुंच गया है। हालांकि उस दिन केवल जगदलपुर में 30 मिलीमीटर बरसात को छोड़कर कहीं भारी बरसात की सूचना नहीं थी। दुर्ग-भिलाई और राजनांदगांव में भी बरसात नहीं हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *