हमारे अन्नदाता प्रसन्न रहे यही हमारी कोशिश : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Featured Latest खास खबर छत्तीसगढ़ बड़ी खबर राजनीती
Spread the love

०० मुख्यमंत्री ने कैम्प लगाकर बंदोबस्त त्रुटि सुधार करने अधिकारियों को दिए निर्देश

जनकपुर ग्राम पंचायत को नगर पंचायत और कुवांरपुर तथा नागपुर को उप-तहसील का दर्जा दिए जाने की घोषणा

केल्हारी में खुलेगा स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल, जनकपुर-कोटाडोल सड़क के प्रभावितों को मुआवजे के लिए तीन करोड़ रुपए की घोषणा

विधानसभा क्षेत्र के सभी गांवों में देवगुड़ी के निर्माण के लिए पांच-पांच लाख रुपए की स्वीकृति

रमदहा जलप्रपात को किया जाएगा पर्यटन स्थल के रूप में विकसित
माड़ीसराई में विद्युत उपकेंद्र और क्षेत्र के बिजली विहीन गांवों में बिजली पहुंचाने की व्यवस्था

भरतपुर-सोनहत विधानसभा के बहरासी में भेंट-मुलाकात कार्यक्रम

रायपुर| मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज अपने भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान कोरिया जिले के भरतपुर विकासखण्ड के ग्राम बहरासी पहुंचकर वहां स्थित हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों के सुख-समृद्धि एवं खुशहाली की कामना की।  उन्होंने कार्यक्रम स्थल पर छत्तीसगढ़ महतारी के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं पूजा-अर्चना कर भेंट-मुलाकात की शुरूआत की। मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात के दौरान आम जनता से राज्य शासन की योजनाओं पर फीडबैक लिया और ग्रामीणों की मांग पर क्षेत्र की विकास के लिए अनेक घोषणाएं की।

उन्होंने विधानसभा क्षेत्र के सभी गांवों में देवगुड़ी के निर्माण के लिए पांच-पांच लाख रुपए, बहरासी हायर सेकंडरी स्कूल के लिए नये भवन के निर्माण, रमदहा जलप्रपात को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने, जनकपुर-कोटाडोल सड़क के प्रभावितों के मुआवजे के लिए तीन करोड़ रुपए की घोषणा, माड़ीसराई में नए विद्युत उपकेंद्र की स्थापना, क्षेत्र के बिजलीविहीन गांवों में बिजली पहुंचाने की व्यवस्था, केल्हारी में नए जिला सहकारी बैंक की शाखा, केल्हारी में नए स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलने, कुवांरपुर और नागपुर को उपतहसील कार्यालय खोले जाने और जनकपुर ग्राम पंचायत को नगर पंचायत बनाये जाने की घोषणा की। उन्होंने अधिकारियों को कैम्प लगाकर बंदोबस्त त्रुटि सुधार करने के लिए भी निर्देशित किया।

 

यह भी पढ़े :

मुख्यमंत्री ने रजौली में भेंट-मुलाकात के दौरान आमजनता से लिया शासकीय योजनाओं का फीडबैक

 

 

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हमारे अन्नदाता प्रसन्न रहे यह हमारे सरकार की कोशिश है। प्रदेश में लोग गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर बेचकर भी पैसा कमा रहे हैं, ऐसी योजना पूरे देश और दुनिया में कहीं नहीं है। गौठान में हमारी स्व-सहायता समूह की बहनें विविध आर्थिक गतिविधियों के माध्यम से आर्थिक रूप से सशक्त हो रही है। अब राज्य सरकार ने तय किया है कि गोबर के साथ गौ-मूत्र की भी खरीदी की जाएगी, जिससे भी पैसा मिलेगा। मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात के दौरान ग्रामीणों से ऋण माफी, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, राशनकार्ड, गोधन न्याय योजना, राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना सहित अनेक योजनाओं से मिल रहे लाभ के बारे में भी जानकारी ली।  इस अवसर पर गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, विधायक श्री गुलाब कमरो, अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू और ऊर्जा विभाग के सचिव श्री अंकित आनंद भी उपस्थित थे।

वर्मी कम्पोस्ट बेचकर महिलाओं ने दो साल में कमाए 13 लाख रूपए
बहरासी में भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में जनकपुर गौठान से आई श्रीमती नीलिमा ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को बताया कि उनके समूह को विगत दो वर्षों में 13 सौ क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट बेचकर लगभग 13 लाख रूपए की आमदनी हुई, जिससे समूह की महिलाआंे ने पेवर ब्लॉक बनाने की मशीन खरीदी। समूह को 86 हजार की पेवर ब्लॉक के विक्रय से लगभग 13 लाख 76 हजार का आय प्राप्त हुआ। इसके अलावा समूह की दीदीयों द्वारा मसाला, अचार, पापड़, बड़ी बनाकर सी-मार्ट, मध्यान्ह भोजन एवं छात्रावास में बेचा जाता है। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि गौठान से जुड़कर मुझे व्यक्तिगत रूप से 80 हजार रूपए की आमदनी हुई, जिसे मैंने अपने बच्चों की शिक्षा में खर्च किया। श्रीमती नीलिमा ने गोधन न्याय योजना के संचालन के लिए मुख्यमंत्री श्री बघेल का अभिनंदन किया।

 

यह भी पढ़े :

मुख्यमंत्री 29 जून को मनेन्द्रगढ़ विधानसभा के ग्राम कटकोना एवं पाराडोल में करेंगे आम जनता से भेंट-मुलाकात

 

 

मुख्यमंत्री ने उनके कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि नीलिमा बहन ने अपने जनकपुर की कहानी बताई, जिसमें वे न केवल वर्मी कम्पोस्ट बना रही बल्कि मसाला, पापड़, पेवर ब्लॉक जैसे विभिन्न आय मूलक गतिविधियां संचालित कर रही है जिनसे उन्हें रोजगार मिला और उनके आय में भी वृद्धि हुई है। यह बताने का उद्देश्य है कि हमें सभी गांवों में इन गतिविधियों को संचालित करना होगा।  जिससे रोजगार पाने के लिए हमें गांवों से बाहर जाने की आवश्यकता नहीं होगी, हमें अपने गांवों में ही रोजगार मिलेगा। जिसके लिए शासन पूरी तरह से समर्पित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो महिलाएं एवं युवा साथी काम करना चाहते हैं, उन्हें संगठित होकर आगे आना होगा। राज्य शासन द्वारा ब्लॉक स्तर पर प्रशिक्षण की तैयारी भी की गई है। इसके अंतर्गत सभी गौठानों में प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है। अब लघुवनोपजों से बने और गौठानों में बनने वाले उत्पादों के विक्रय के लिए प्रत्येक जिलों में सी-मार्ट भी खोल दिए है। इससे उत्पादकों को अपने उत्पादों के अच्छे दाम मिलने लगे है।

दिव्यांग धरमपाल को मिला मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल :- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बहरासी में भेंट-मुलाकात के दौरान ग्राम पतवाही के दिव्यांग श्री धरमपाल को मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल प्रदान किया। श्री धरमपाल ने मुख्यमंत्री को इस अमूल्य भेंट के लिए धन्यवाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *