भारत में अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस पखवाड़ा कार्यक्रम मनाने एस्टेरॉयड फाऊंडेशन लक्ज़मबर्ग द्वारा विश्वनाथ को मिली स्वीकृति

Featured Latest आसपास छत्तीसगढ़ प्रदेश
Spread the love

०० संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व स्तर पर अधिकार रूप से मंजूरी दी है

०० दुनिया भर में 125 कार्यक्रम जिनमें भारत से 15 व छत्तीसगढ़ दंतेवाड़ा से 1 कार्यक्रम शामिल हैं

दंतेवाड़ा| अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस का उद्देश्य क्षुद्रग्रह प्रभाव के खतरे के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना और एक विश्वसनीय निकट-पृथ्वी वस्तु के खतरे के मामले में वैश्विक स्तर पर किए जाने वाले संकट संचार कार्यों के बारे में जनता को सूचित करना है। एस्टेरॉयड फाउंडेशन लक्ज़मबर्ग ने भारत के अमुजुरी विश्वनाथ को अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस पर पखवाड़ा कार्यक्रम आयोजित करने की आधिकारिक मंजूरी दी है। वर्ष 2022 के लिए “स्मॉल इस ब्यूटीफुल” विषय पर 15 दिवसीय कार्यक्रम 30 जून से 14 जुलाई तक आयोजित किया जा रहा है।

 

 

यह भी पढ़े :

किसानों को फसल बीमा दावा राशि का भुगतान करने में छत्तीसगढ़ देश का अग्रणी राज्य

 

 

अमुजुरी विश्वनाथ वर्तमान में छत्तीसगढ़ दंतेवाड़ा के एजुकेशन सिटी जवांगा स्थित आस्था विद्या मंदिर में शिक्षक तथा स्पेस फाउंडेशन कोलोराडो स्प्रिंग्स यूएसए के अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक संपर्क अधिकारी एवं भारत सरकार के विज्ञान प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय विज्ञान कांग्रेस संस्था में विशेषज्ञ के रूप में कार्यरत है। इसी कड़ी में आस्था विद्या मंदिर जावंगा में 30 जून को विश्व क्षुद्र ग्रह दिवस मनाते प्रॉजेक्ट लाइव प्रर्दशन करते हुए कार्यक्रम प्रारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने एस्टेरॉयड एवं सोलर सिस्टम मॉडल प्रदर्शन किया। भारत से 15 सहित विश्व भर में 125 कार्यक्रम अलग अलग देशों में आयोजित किया जा रहा है। इनमें से छत्तीसगढ़ राज्य के दंतेवाड़ा से केवल एक व्यक्ति अमुजुरी विश्वनाथ है, जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस 2022 पर ऑनलाइन व ऑफलाइन पखवाड़ा कार्यक्रम आयोजित करने के लिए आधिकारिक स्वीकृति मिला है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में सभी छात्रों, शिक्षकों, वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं, पत्रकारों और आम जनता के लिए वेबिनार, प्रतियोगिताएं, पुरस्कार समारोह जैसे विभिन्न कार्यक्रम निःशुल्क शामिल किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *