योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं, यह जानने के लिए दूरस्थ वनांचलों से भेंट-मुलाकात कार्यक्रम की शुरूआत की : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Featured Latest खास खबर छत्तीसगढ़ बड़ी खबर राजनीती
Spread the love

०० पोंड़ी-बचरा में नवीन महाविद्यालय, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उन्नयन, सहकारी बैंक, पुलिस चौकी, घनुहर नाले पर नया पुल और सकरिया में विद्युत सब स्टेशन की सौगात
रायपुर| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज बैकुण्ठपुर विधानसभा क्षेत्र में भेंट मुलाकात की शुरूआत ग्राम पोंड़ी-बचरा की देवगुड़ी में विधिवत पूजा-अर्चना से की। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर पोंड़ी-बचरा में उच्च शिक्षा के लिए नवीन महाविद्यालय, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूल, स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाने के लिए पांेड़ी-बचरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उन्नयन, बैंकिंग सुविधा विस्तार के लिए सहकारी बैंक की शाखा, पुलिस सहायता केंद्र का पुलिस चौकी में उन्नयन, सु-व्यवस्थित आवागमन के लिए ग्राम मनसुख के पास घनुहर नाले पर नए पुल के निर्माण और ग्राम सकरिया में नवीन विद्युत सब स्टेशन स्थापित करने की घोषणा।

 

यह भी पढ़े :

हमारी सरकार ने लोगों की जेब में सीधे पैसा डालने का काम किया : भूपेश बघेल

 

मुख्यमंत्री के ग्राम पोंड़ी-बचरा पहुंचने पर मांदर, नगाड़े की थाप और सेवा गीत की धुन पर स्थानीय नाचा दल ने उत्साहपूर्वक उनका स्वागत किया। रेशम महिला समूह जामपारा की सदस्य श्रीमती अन्नपूर्णा सिंह ने मुख्यमंत्री को महिलाओं द्वारा टसर के धागों से बनी मलबरी कोसा की माला भेंट की। राजीव युवा मितान क्लब पोंड़ी के सदस्यों ने पारम्परिक खुमरी और कच्चे सूत की माला पहनाकर स्वागत किया। भेंट मुलाकात के दौरान श्रीमती विमला श्याम ने राज्य सरकार की योजनाओं व उपलब्धियों पर आधारित मनमोहक गीत प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री ने गीत से प्रभावित होकर उनकों बधाई व शुभकामनाएं दी।मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ महतारी की पूजा कर लोगों से मुलाकात का सिलसिला शुरू किया। उन्होंने उपस्थित ग्रामीणों से आत्मीय चर्चा करते हुए बड़ी सहजता से राज्य सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि भेंट मुलाकात का मुख्य उद्देश्य ये जानना है कि लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं, इसीलिए मैने प्राथमिकता से दूरस्थ वनांचलों से भेंट-मुलाकात कार्यक्रम की शुरूआत की।

 

यह भी पढ़े :

मुख्यमंत्री ने झुमका आइलैंड में झूला – झूला, मचान पर बैठ रिवर साइड व्यू का देखा नजारा

 

 

मुख्यमंत्री की भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान पोंड़ी-बचरा में तेज बारिश के बीच बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने चर्चा प्रारंभ करते हुए कहा कि कुछ सवाल मैं पूछूंगा कुछ सवाल आप लोग पूछिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष राज्य सरकार ने 98 लाख मीट्रिक टन धान खरीदा है।  इतनी मात्रा में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी पहले कभी नहीं हुआ था।  सभी किसानों को राजीव गांधी न्याय योजना का लाभ मिल रहा है। इस योजना के माध्यम से किसानों को उनकी मेहनत का सही दाम दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री से चर्चा करते हुए श्री बालाराम ने कहा कि भारत सरकार खाद नहीं भेज रही है, मैंने 40 बोरा वर्मी कंपोस्ट खरीदा है।  मुख्यमंत्री ने बालाराम को आश्वस्त करते हुए कहा कि गौठान के रूप में गांव-गांव में खाद की फैक्ट्री तैयार हो रही है। अब गांवों में भी जैविक खाद उपलब्ध होगी। खाद की समस्या नहीं होगी। मुख्यमंत्री को श्री राम नारायण ने बताया कि 90 क्विंटल गोबर बेचने पर उसे 18 हजार रूपए की आमदनी हुई हैं, इस पैसे को उसने अपनी बेटी की शादी में खर्च किया है। वे आगे भी गोबर बेचेंगे और खेती किसानी का विस्तार करेंगे। ग्राम पोंड़ी की कमला ने बताया कि वो गौठान में केंचुआ उत्पादन करती है, इससे उसे अब तक 5 लाख 25 हजार रूपए की आमदनी हैं। इसके अलावा कमला ने 3 सौ 80 क्विंटल वर्मी कंपोस्ट बेचकर 3.80 लाख रूपए की आय प्राप्त किया है। इसी पैसे से उसने व्यवसाय विस्तार कर बीज की दुकान खोली है। मुख्यमंत्री ने श्री राम नारायण और श्रीमती कमला बाई को व्यवसाय विस्तार के लिए प्रोत्साहित करते हुए शुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री ने स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की छात्रा सताक्षी से चर्चा की। मुख्यमंत्री के छत्तीसगढ़ी में किए गए सवालों का जवाब सताक्षी ने अंग्रेजी में दिया। छात्रा के जवाब से मुख्यमंत्री प्रसन्न हुए और सताक्षी की तारीफ करते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की। सताक्षी ने कहा कि अन्य स्थानों पर भी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खुलने से बाकी छात्रों को भी फायदा होगा। मुख्यमंत्री ने वन अधिकार पट्टा के वितरण को लेकर खुशी जाहिर की। कार्यक्रम में उपस्थित हितग्राहियों ने एक साथ वन अधिकार प्रमाण पत्र को दिखाते हुए अपनी खुशी जाहिर की। उल्लेखनीय है कि जिले में 17 हजार से ज्यादा वन अधिकार पट्टों का वितरण हो चुका है। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से चर्चा के पहले वहां के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया। भेंट मुलाकात के दौरान संसदीय सचिव श्रीमती अम्बिका सिंहदेव, स्थानीय जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *