एनएमडीसी डीएवी पॉलिटेक्निक जावंगा में नवाचार व उद्यमिता राष्ट्रीय व्याख्यान का हुआ आयोजन

Featured Latest आसपास छत्तीसगढ़ प्रदेश
Spread the love

०० इंस्टीट्यूट इनोवेशन काउंसिल शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार एवं अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद द्वारा मिली स्वीकृति

०० छत्तीसगढ़ राज्य में एक मात्र पॉलिटेक्निक संस्था जिसे मिला आयोजन का मौका

गीदम/दंतेवाड़ा| उच्च शिक्षा के गुणवत्ता हेतु शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार एवं अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के तहत इंस्टीट्यूट इनोवेशन काउंसिल का गठन भारत के सभी उच्च शिक्षा संस्थानों में किया जा रहा है। इसी परिपेक्ष्य में एनएमडीसी डीएवी पॉलिटेक्निक दंतेवाड़ा जावंगा में भी आईआईसी सेल का गठन एवं सफल संचालन किया जा रहा है, जिससे विद्यार्थियों में नवाचार, उन्नयन एवं उद्यमिता को बढ़ावा दिया जा सके और देश व प्रदेश में आत्म निर्भरता की ओर अग्रसर हो। वर्ष 2022 इंपैक्ट लेक्चर सीरीज के आयोजन हेतु एनएमडीसी डीएवी प्लाइटेक्निक महाविद्यालय को चयनित किया गया। पूरे छत्तीसगढ़ में 5 संस्थानों को यह अवसर प्राप्त हुआ, उनमें से एनएमडीसी डीएवी पॉलिटेक्निक दंतेवाड़ा जावंगा एक मात्र पॉलिटेक्निक संस्थान है। उद्यमिता, बौद्धिक संपदा अधिकार एवं नवचार पर राष्ट्रीय व्याख्यान द्वितीया चरण 7 जुलाई को आयोजन किया गया। जिसमें पूरे देश एवं विभिन्न राज्यों के विषय विशेषज्ञ अपना अनुभव एवं मार्गदर्शन सभी प्रतिभागियों के साथ साझा किया।

 

यह भी पढ़े :

छत्तीसगढ कोरोना अपडेट : प्रदेश में मिले 220 कोरोना संक्रमित, 9 हजार 697 सैम्पलो की हुई जांच

 

 

कार्यक्रम में प्राचार्य डॉ मुकेश ठाकुर ने बताया कि महाविद्यालय एवं विद्यालय के विद्यार्थियों का नवाचार उद्यमिता प्रतियोगिता में उत्कृष्ट आइडियाज का चयन कर उसे कार्यरत में लाने को प्रयास किया जाएगा। प्रथम सत्र में श्री प्रताप शुक्ला, सीईओ इनोवेशन इनक्यूबेशन सेंटर नागपुर यूनिवर्सिटी द्वारा आइडियाथान पर जानकारी दिया गया एवं उन्होंने बताया की नवाचार आइडिया के द्वारा अलग अलग प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया जा सकता है जिससे सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हो। द्वितीय सत्र में श्री अभिजीत खानदगले, उद्यमी व कृत्रिम होशियारी विशेषज्ञ द्वारा उद्यमिता पर व्याख्यान दिया गया। उन्होंने सफल उद्यमी की विशेषताऐं एवं उद्यम को कैसे नई ऊंचाई तक विकास पर जानकारी दी। कार्यक्रम का मंच संचालन प्राध्यापक वैभव प्रताप सिंह एवं प्राध्यापक राघवेंद्र दीवान ने अपने नवाचार वाणी से संचालित किया।

 

 

यह भी पढ़े :

खरीफ विपणन वर्ष 2022-23 में किसानों से 110 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य

 

 

विज्ञान व प्रदौगिकी मंत्रालय भारत सरकार के भारतीय विज्ञान कांग्रेस संस्था विशेषज्ञ अमुजुरी विश्वनाथ ने नवाचार पेटेंट एवं उद्यमिता स्थापना प्रक्रिया पर प्रश्न उत्तर चर्चा किया। इस आभासीय आयोजन में लगभग 400 विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया एवं इस व्याख्यान का लाभ भी लिया। इस अवसर पर प्रबंधन के सदस्यों ने महाविद्यालय को इस उपलब्धि पर बधाई दी। उन्होंने छात्र छात्राओं से इस अवसर का पूरा लाभ उठाने और उद्यमिता हेतु नवकार के प्रति जागरूक बनने को कहा। प्राचार्या डॉ मुकेश ठाकुर ने बताया कि एनएमडीसी डीएवी पॉलिटेक्निक महाविद्यालय के प्रबंधन के सहयोग से बस्तर क्षेत्र के छात्र छात्राओं के लिए कैंपस प्लेसमेंट का भी आयोजन किया जाएगा, जिसमे बहुराष्ट्रीय कंपनियां बस्तर के युवाओं हेतु आएगी। बस्तर अंचल में अध्ययन रत सभी छात्र छात्राओं के बौद्धिक एवं आर्थिक विकास को निरंतर गति प्रदान करने का प्रयास रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *