छत्तीसगढ़ के कई जिलों में भारी बरसात का रेड अलर्ट, प्रदेश के 6 जिलों में भारी से अति भारी बरसात और वज्रपात की आशंका

Featured Latest आसपास छत्तीसगढ़ प्रदेश
Spread the love

०० बीजापुर में एक दिन के भीतर गिरा 22 सेंटीमीटर पानी, बाढ़ जैसे हालात

रायपुर| छत्तीसगढ़ के अधिकांश हिस्सों में बरसात का सिलसिला तेज हो गया है। रविवार को बीजापुर में एक्स्ट्रीमली हैवी बरसात दर्ज हुई। वहां एक ही दिन के भीतर 22 सेंटीमीटर पानी बरसा है। यह इस सीजन की सबसे तेज बरसात है। प्रदेश के 6 जिलों में अब भी भारी से अति भारी बरसात और वज्रपात का रेड अलर्ट जारी है।

 

यह भी पढ़े :

हसदेव अरण्य क्षेत्र में खनन परियोजनाओं के खिलाफ आया सरपंच संघ, कहा-खदानों की अनुमति निरस्त करे सरकार

 

मौसम विभाग के मुताबिक रविवार को पखांजुर में 11 सेंटीमीटर, लोहंडीगुड़ा में 9 सेंटीमीटर, अंबागढ़ चौकी में 8 सेंटीमीटर, अभनपुर, दुर्ग में 6 सेंटीमीटर और गरियाबंद, दरभा, तोकपाल और अंतागढ़ में 5 सेंटीमीटर बरसात दर्ज हुई है। मैदानी क्षेत्रों में भी बेहद हल्की से हल्की स्तर की बरसात दर्ज है। मौसम विभाग ने सोमवार को बीजापुर, राजनांदगांव, कबीरधाम, मुंगेली, महासमुंद और गरियाबंद जिलों में भारी से अति भारी बरसात और आकाशीय बिजली गिरने का रेड अलर्ट जारी किया है। कोण्डागांव, कांकेर, धमतरी में भारी बरसात और वज्रपात का आरेंज अलर्ट है। वहीं सुकमा, दंतेवाड़ा, बस्तर, नारायणपुर, बालोद, दुर्ग, रायपुर, बेमेतरा, जांजगीर-चांपा, बलौदा बाजार, बिलासपुर, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, रायगढ़ और कोरबा में भारी बरसात का येलो अलर्ट जारी है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक दक्षिण छत्तीसगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी वर्षा होने की संभावना बन रही है। बीजापुर के दक्षिणी छोर पर अत्यधिक भारी वर्षा होने की संभावना है।

 

यह भी पढ़े :

बरसाती नाला पार करते समय नाले में बह गया पीडीएस के चावल से भरा ट्रक

 

मौसम विज्ञानियो के मुताबिक, एक निम्न दबाव का क्षेत्र दक्षिण ओडिशा, उत्तर आंध्र प्रदेश और पड़ोस के तटीय क्षेत्रों पर स्थित है, जो संबंधित चक्रवाती परिसंचरण के साथ समुद्र तल से 7.6 किमी ऊपर तक फैला हुआ है। यह ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुका हुआ है। मॉनसून की ट्रफ अब बीकानेर, सीकर, शिवपुरी, सतना, झारसुगुडा, दक्षिण ओडिशा, उत्तर आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों और आसपास के इलाकों में निम्न दबाव क्षेत्र के केंद्र से गुजरकर दक्षिण-पूर्व की ओर पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। इसकी वजह से इन छत्तीसगढ़ में भारी बरसात का योग बन रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *