भारी बारिश का कहर : गंगरेल डैम के सभी 14 गेट खोले गए, 10 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया

Featured Latest आसपास छत्तीसगढ़ प्रदेश
Spread the love

०० रायपुर-जगदलपुर हाईवे बंद; छत्तीसगढ़-तेलंगाना बार्डर पर सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन

धमतरी| धमतरी स्थित गंगरेल बांध के सभी 14 गेट खोल दिए गए हैं। फिलहाल वहां से 10 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इसे लेकर प्रशासन की ओर से महानदी के किनारे बसे गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। पहाड़ों से लगातार पानी आने के चलते गंगरेल डैम 91 फीसदी तक भर गया है। राजनांदगांव में उफनता नाला पार नहीं कर पाने के कारण एक मरीज की मौत हो गई। वहीं रायपुर-कांकेर के बीच NH-30 पर चट्‌टान गिरने से जगदलपुर रूट बंद हो गया है। दूसरी ओर सुकमा के कोंटा शहर में पानी कम होने से लोगों ने राहत की सांस ली है।

 

यह भी पढ़े :

समय पर उपस्थिति और प्रकरणों पर कार्यवाही ही समस्या का है समाधान : तारन प्रकाश सिन्हा

 

 

महाराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के बाद अब दक्षिण बस्तर में हो रही बारिश भी कहर बनने लगी है। नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। इसके चलते छत्तीसगढ़ से तीनों राज्यों का संपर्क अभी तक कटा हुआ है। हाईवे पूरी तरह से पानी में डूबा है। कई बड़े वाहन-ट्रक भी उसमें फंस गए हैं। इस दौरान सेना वहां फंसे लोगों को हेलीकॉप्टर से रेस्क्यू कर रही है। कोंटा से लगते तेलंगाना के भद्राचलम में पानी के चलते लोग बचने के लिए घरों की छत पर चले गए हैं। धमतरी में रविवार तड़के करीब 4 बजे से मूसलाधार बारिश जारी है। इसके चलते शहर के आमापारा वार्ड में कमर तक पानी भर गया है। लोग उस भरे हुए पानी में नाव चलाकर मस्ती कर रहे हैं। शहर की सड़कों पर 2 से 3 फीट पानी भरा हुआ है। दूसरी ओर नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। नगरी क्षेत्र के कई गांवों का संपर्क मुख्यालय से टूट गया है। मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिले में डेढ़ इंच बारिश दर्ज की गई है।

 

यह भी पढ़े :

स्कूल प्राचार्य की दो और व्याख्याता की एक वेतन वृद्धि रोकी गई, विलंब से स्कूल पहुंचने वाले 10 कर्मियों का वेतन काटने का आदेश

 

 

20 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा सकता है डैम से :- दूसरी ओर कांकेर में भी रात से लगातार बारिश हो रही है। इसके कारण कांकेर के साथ ही चरामा और केशकाल से लगातार पानी आने से महानदी का जल स्तर बढ़ने लगा है। गंगरेल डैम भी फुल होने की स्थिति में है। बताया जा रहा है कि 76 हजार क्यूसेक पानी आ रहा है। इसे देखते हुए रायपुर से विशेषज्ञों की टीम बुलाई गई थी। उनके आने के बाद बांध के गेट खोल दिए गए हैं। अभी के अनुमान के मुताबिक, 20 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा।

रायपुर, गरियाबंद, धमतरी, बलौदाबाजार में पड़ेगा असर :- डैम से पानी छोड़ जाने का असर धमतरी के साथ ही रायपुर, गरियाबंद और बलौदाबाजार में भी पड़ेगा। ऐसे में प्रशासन ने महानदी के किनारे बसे गांवों को अलर्ट कर दिया है। ग्रामीणों से नदी किनारे और उसके आसपास जाने से रोका जा रहा है। इसे लेकर जिले के SP और अन्य पुलिस अफसरों को सूचित किया गया है। उनसे कहा गया है कि स्थानीय स्तर पर व्यवस्था करें। किसी भी तरह से जान या माल का नुकसान न हो पाए।

कांकेर में सड़क बही, कई गांवों का संपर्क टूटा :- बारिश के चलते लैंड स्लाइड का खतरा बढ़ने लगा है। कांकेर-रायपुर नेशनल हाईवे पर चरामा के आगे मरकटोला घाट में रविवार सुबह चट्‌टान टूटकर गिरी है। इसके चलते मार्ग पर जाम लग गया। हालांकि कोई नुकसान नहीं हुआ है। सूचना मिलने पर चट्‌टान को हटाकर रास्ता साफ कराया गया है। इससे पहले भी यहां पत्थर गिरते रहे हैं। इसके अलावा चारामा के कुर्रुभाठ मार्ग को जोड़ने वाली सड़क बह गई है। इसे कई गांवों का संपर्क कट गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *