एक दर्जन समूह की दीदीयां तैयार कर रही तिरंगा

Featured Latest छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय
Spread the love

महासमुंद| स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त 2022) को भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ ‘‘आजादी के अमृत महोत्सव’’ पूरा जिला उत्साहित है। इसे लेकर महासमुंद जिले में हर घर तिरंगा अभियान की तैयारियां भी जोर-शोर से की जा रही हैं। जिले में पहली बार स्व सहायता समूह की दीदीयां तिरंगा तैयार कर रही हैं। इनमें बागबाहरा विकासखण्ड के गणेश, गायत्री स्व सहायता समूह, पिथौरा के संस्कार और गायत्री समूह, महासमुंद की कृष्णा और माया स्व सहायता समूह, सरायपाली ब्लॉक की भगवती और गंगा समूह की दीदीयां और बसना विकासखण्ड की सरस्वती, जय मॉ दुर्गा (सागरपाली) और जय मॉ दुर्गा (बंसुला) के साथ गंगा स्व सहायता समूह की एक दर्जन समूह की महिलाएं (दीदीयां) द्वारा तिरंगे सिलाई का कार्य कर रही हैं। वर्तमान में समूह की महिलाओं को ढाई हजार तिरंगे झण्डे सिलने का ऑर्डर मिला है। विभिन्न विभागों द्वारा और तिरंगे झण्डे बनाने का ऑर्डर और दिया जा रहा है। ये सभी दीदीयां भारतीय झण्डा संहिता के तहत 2002 के दिशा-निर्देशों के अनुरूप झण्डा सिलाई का कार्य कर रही हैं।

 

यह भी पढ़े :

विश्व बाघ दिवस: उदंती-सीतानदी टाइगर रिजर्व अंतर्गत विविध कार्यक्रम सम्पन्न

 

कलेक्टर श्री निलेशकुमार क्षीरसागर ने 13 से 15 अगस्त तक हर घर में राष्ट्रीय ध्वज फहराने और इस अभियान में जनभागीदारी की पहल सुनिश्चित करते हुए इसे लोकप्रिय बनाने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। इसकी सफलता के लिए विशेष प्रचार-प्रसार अभियान की शुरुआत की जा रही है। स्कूली छात्रों द्वारा प्रभात फेरियां भी आयोजित की जाएगी। की महिलाओं को एक हजार तिरंगे सिलाई का विभिन्न विभागों से ऑर्डर मिला है। तिरंगा तैयार करने वाली महिलाओं का उत्साह देखते ही बन रहा है।
जिला प्रशासन के मुताबिक हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने के लिए स्कूल, कॉलेज में विभिन्न प्रतियोगिता निबंध प्रतियोगिता, बाईक रैली सहित अन्य जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने की पहल की जा रही है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर को तिरंगा अभियान से जोड़ा जाएगा। जिला प्रशासन द्वारा समाज सेवी संगठनों से सम्पर्क कर गरीबों और दिव्यांगों को निःशुल्क झण्डे मुहैया कराने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *